बेसब्र..

बेसब्र हैं लोग, और बेशर्म मिज़ाज,

बेबस हैं रिश्ते, और बेहिस समाज।

हास्य की कुछ पंक्तियाँ..

तेरे इश्क़ में हम यूँ बेहाल होते गए,
यूँ तो थे यूपी के, बंगाल के होते गए।

मेहनत के काम ने ना दिया साथ मेरा,
कमाने चले थे पैसे, पर कंगाल होते गए।

आए थे मिलने महबूब से छुपते छुपाते,
ढूँढने आए थे सुकून, पर बवाल होते गए।

सुनसान सी उन राहों से..

सुनसान सी उन राहों से एक आवाज़ आती है,
बीते ज़माने की कई यादों की याद दिलाती है।

सोचा कई बार उन गलियों से फिर हों रूबरू,
वो जर्जर हवेली बेरुख़ी की दास्तान सुनाती है।

कई साल, कई युग बीते, अपनों की राह तक़ते,
सुनी आँखें, बिन कहे, कई अफ़साने सुनाती है।

सोचा नहीं था ज़िंदगी भी इस मुक़ाम पे लाती है,
सपनों की चाह में, ये अपनों से दूर ले जाती है।

..ज़रूरी तो नहीं

हर बात को समझना ज़रूरी तो नहीं,

हर शक़्स को परख़ना ज़रूरी तो नहीं।

ज़रुरी है वक़्त रहते सबक़ सीख़ लें,

हर वक़्त का ठहरना ज़रूरी तो नहीं।

है बरक़त इश्क़ की इबादत में लेकिन,

हर ख़्वाब का सँवरना ज़रूरी तो नहीं।

है मुम्किन हासिल हो ये मर्हला मुझे,

राहे इश्क़ में भटकना ज़रूरी तो नहीं।

थक गए इम्तिहान-ए-ज़िंदगी दे कर,

हर मोढ़ पर आज़माना ज़रूरी तो नहीं।

एहसानों की बात…

एहसानों की बात कर लेते हैं,

फ़सानों की बात कर लेते हैं।

मिलते हैं मरकज़े इश्क़ से तो,

एहसासों की बात कर लेते हैं।

गफ़लत-ए-इश्क़…

गफ़लत-ए-इश्क़ में हलाल हो गए,

जाने कितने उनको मलाल हो गए।

थी कभी मोहब्बत हमको इस क़दर,

शाम थी हसीन, दिन गुलाल हो गए।

करने लगे शिकवे वो शाम-ओ-सहर,

जो थे छोटे गिले, बड़े सवाल हो गए।

Back to Top
error: Content is protected !!